इंडियन Entrepreneurs ने अभी तक हमारा कट्टा ही किया है | – CEO राकेट इन्टरनेट

अब हिसाब किताब की बात है तो वो तो बाप बेटे में भी होता है,  उस से कोई कोम्प्रोमाईज़ थोड़ी कर सकते | मार्किट में कुछ बात जुबान पे ही चलती है और भरोसे पे तो जीवन टिका है, पर इंडियन लोंडो के साथ काम करने में कट्टा महसूस  हो रहा है ऐसा कहना है राकेट इन्टनेट कंपनी के एशिया pacific CEO  हंनो स्तेग्मान का जिन्होंने फ़ूड पांडा, जबोंग जैसी कंपनी में पैसा लगा रखा है, अब पैसा लगा दिया तो लगा दिया क्या ही कर सकते है | यहाँ के लडको के काम करने के तरीके से राकेट वाले थोड़े विचलित है क्योकि फाइनेंनशिअल इनकारपोरेशन क्या क्या कदम उठाना है इसको लेके खूब दिक्कत आती है | CEO CTO COO की आपस में ही नहीं बनती तो भसड  तो होती ही है और फिर important पोस्ट वाले रिजाइन मार के दूसरी कंपनी ज्वाइन करते है | ऐसी बहुत दिक्कते है इस चक्कर में पैसा लगाने वाला लाला की सासे अटक जाती है |
Rocket1
अब ऐसी बाते सीईओ साब ने इसलिए बोली क्योकि एक चुंगी लगी है रीसेंट में, एक फर्नीचर की कंपनी है उसको फ्यूचर ग्रुप वाले अपने बियानी जी ने 15 करोड़ के आस पास खरीद लिया | खरीद लिया तो खरीद लिया पर कट्टा यहाँ हुआ की अपने राकेट वालो ने  उसमे 150 खोखा का इन्वेस्टमेंट लगा चुके थे | ऐसे अभी और भी स्टार्ट अप्स है जो की आये और सन्नाटे में बंद हो चुके है,
पर भाई के जिगर की दाद देनी पड़ेगी क्योकि इन्होने कहा है की ऐसा होता रहता है कोई लोड नहीं  पर हम अब वेंचर में  फूँक फूँक के इन्वेस्टमेंट करेंगे, इंडिया से जाने वाले नहीं |
वैसे ये कंपनी  बहुत सही भी और शातिर भी लगती है , इसका बिसनेस मॉडल अनूठा है,  ये कही से आईडिया उठा लेता है फिर ग्लोबल मार्किट को Array जैसे एक स्कैन मार के void  देख के  तुरंत रेप्लिकेट कर देते है | मिसाल के तौर पे इनलोगों ने OYO का आईडिया उठा के जेन रूम नाम से साउथ ईस्ट Asia में लांच कर दिया |
क्या बोलते हो ये लोग है की नहीं  तुर्रम खां |
 tt-rocket-2

टोरेंट चलाना लफड़े भरा लगता है तो ओपन डायरेक्टरी ट्राय करे

कभी कभी टोरेंट चलाना लफड़े भरा होता है , कौनसा तो लिंक दबाना है कौनसा डाउनलोड करना है खबर ही नहीं पड़ती , कभी चमकीला डाउनलोड बटन दबा दिया तो पता नहीं क्या .zip जुप फाइल डाउनलोड होने लगती हवा ही नहीं लगती | टोरेंट अगर कोई नया आदमी इस्तेमाल कर रहा हो तो दिक्कत होती है, क्या तो सीडिंग क्या तो लीचिंग क्वालिटी वाली कौनसा लिंक है कौनसा नहीं दिक्कत भरा काम है  पर करे क्या मुफ्त में पिक्चर वही मिलती है, कोटला या कमला नगर मार्किट में CD मिल तो जाती है पर ब्लू रे तो टोरेंट पे ही मिलता है |

कभी तो सेंसर के चक्कर में साईट खुलती ही नहीं और फिर अगर कुछ पुराना ढूँढना हो तो और अलग ढूँढो , इसलिए इस पोस्ट में एक सही चीज़ के बारे में बताते है जिसका नाम ओपन डायरेक्टरी है |

open-directory

ओपन डायरेक्टरी क्या है ? और फायदे 

अगर ऐसा कहे की आपकी हार्ड डिस्क पे जो आइटम पड़े है उसको सार्वजनिक कर दिया जाए और फिर एक लिंक दिया जाये की डिस्क यहाँ से एक्सेस होगी तो उसको हम ओपन डायरेक्टरी कहेंगे | ऐसे ही बहुत सारे अच्छे लोग इन्टरनेट पे पाए जाते है जो ओपन डायरेक्टरी देते है | फोल्डर को खंग्लाने पड़ते है पर अधिकतर टाइम हमे मिल जाती है चीज़े, अब ऐसा होता है की गेम ऑफ़ थ्रोन या ब्रेकिंग बेड टाइप सेरियल अधिकतर लोग देखते है  तो आसानी से ओपन डायरेक्टरी में मिल जाते है | अब कसौटी जिंदगी की या कुसुम ढूँढने जाओगे तो नहीं मिलेंगे ये तो शायद टोरेंट पे भी नहीं  मिलेंगे पर मेन सीरीज सारी मिल जाती है |

अब ढेरो डायरेक्टरी होती है  और इसका संकलन बुहत साइट्स पे मिल जाता है  पर सबसे सही जगह निजी राय में हमे Reddit पे मिलेगी | इ बूक हो सीरियल हो मूवी हो सब मिलता है यहाँ  थ्रेड्स होते है यहाँ ढूँढो इसमें भी डायरेक्टरी का Genre होता है अपलोड करने वाला तुम्हारे स्टाइल का निकल गया फिर तो मज़ा आ जायेगा  बहुत बढ़िया चीज़े मिलेंगी फिर तो  |

open-directory-two

तो फिर अब क्या लग जाईये ढूँढिये कुछ बढ़िया मिले तो थ्रेड को इधर भी कमेंट करे और भलाई को आगे बढ़ाये |

चावल के दाने से डाटा की कल्पना

हम चीजों को कितना ग्रांटेड ले लेते है , हमे पता ही नहीं होता की फंडा  क्या है उसके पीछे  के काम करने का पर हम उसे बखूब चीज़े इस्तेमाल करते है, एक बार जहा बैठे है उस कमरे में झांक के देखिये फ्रिज टीवी अलमारी लैपटॉप चार्जर वगेरह क्या हमे पता है की ये सब काम कैसे करते है ? नहीं पता तो भी कोई दिक्कत नहीं |

ऐसे ही डाटा का खेल है रिचार्ज वाले की दुकान पे जाके फट से बोल देते है भैया एक GB डालना पर हमे अंदाज़ा ही नहीं होता ये कितना होता है , अंदाज़ा होता है तो भी ये की youtube डाटा पानी की तरह पीता है बेचारा मेल एक दम गृहणी जैसे डाटा बचा के चलता है , वैसे हम नहीं जाने तो भी कोई फरक नहीं पड़ता , पर इन्टरनेट पे किसी ने बड़ी मेहनत से एक चावल के दाने से डाटा को कम्पेयर किया है चलो इसको हम भी visualize करने की कोशिश करे |

सामान्य ज्ञान के लिए बता देते है की डाटा की सबसे छोटी इकाई bit(बिट) होती है 8 bit मिल के एक बाइट बनते है और फिर आगे बाइट  किलोबाइट , मेगाबाइट , गीगाबाइट  , टेराबाइट  और आगे और भी है वो सब बनते है |

बाइट और चावल : अब चलो visualize करते है , अगर एक चावल के दाने को अगर एक एक बाइट मान लो तो

  • एक कप भर के राइस जितना एक किलोबाइट होता है |

kilobyte rice

  • 8 बैग भर के राइस जितना होता है एक मेगाबाइट |
  • अगर 3 semitruck (सेमीट्रक) मतलब ऐसा समझ सकते है की तीन 407 वाली ट्रक भरके चावल एक गीगाबाइट होता है |
  • दो कंटेनर शिप भर के राइस एक टेरा बाइट जितना होता है |
  • newyork शहर का manhatton ढक जाये उतना चावल को एक पेटा बाइट (petabyte) होगा |

petabyte

  • यूनाइटेड स्टेट्स ऑफ़ अमेरिका के वेस्ट कोस्ट में जितने शहर है उतना चावल होगा तो वो  एक EXABYTE होगा |
  • प्रशांत महासागर (pacific ocean) चावल से भर दो उतना चावल zettabyte होगा  |
  • आखिर में पूरी पृथ्वी को चावल का बॉल बन जाये तो वो होगा एक YOTTABYTE |

byte-one

ये थी गज़ब का visualization  ये अगर आपको ग्राफिकली देखना है तो यहाँ  क्लिक करे  | जितना लिखा सब बना हुआ आ जायेगा |

YouTube भी लूप पे दौडाए

ये सारी छोटी छोटी चीज़े है, पर काम की बहुत है अगर सर्फ़ करते करते एक गाना ही सुनना हो तो बहुत दिक्कत आती है चार या पांच मिनट जितने का भी विडियो है उसके ख़त्म होने के बाद फिर से उस प्लेयिंग वाले छोटे गोले को पीछे घसीट के लाना पड़ता है या रीप्ले करना पड़ता है और इस चीज़ के लिए बहुत सारे extensions मार्किट में थे भी पर इन सब में नहीं जाना बहुत फुद्दू सी चीज़ है आईये देखते है कैसे करते है |

youtube-loop-one

 

विडियो प्ले करे जिसे सुन रहे हो , उसकी विडियो में राईट क्लिक करे नीचे आप्शन में एक लूप का बटन होगा उसे दबा दे , उसपे टिक (✓) का सिंबल आ जायेगा और आपका विडियो बार बार प्ले होगा |

है ना आसान ?

youtube-loop-two

मरने के बाद मेल इन्फो शेयर हो सके , ऐसा जुगाड़ कैसे करे ?

अब जिंदगी का कहा ठिकाना , सोने के बाद अगले दिन सुबह की सांस भी नहीं ले पाए या नहीं क्या पता?  तो इसी चक्कर में अपना इनएक्टिव अकाउंट को कैसे मैनेज करे  ये व्यवस्था भी गूगल के जीमेल में उपस्थित है | डायरेक्ट मरने की बात नहीं करते हुए गूगल बड़ी होशियारी से ” मैनेज इनएक्टिव अकाउंट” शब्द युस करता है |

अच्छा क्या होगा आपके फोटोज, डॉक्यूमेंट और ईमेल के साथ जब आप अपना गूगल अकाउंट  युस करना बंद कर देंगे  , शायद आप चाहते हो की आपका डाटा की आपके करीबी भरोसेमंद  आदमी तक चला जाये ताकि उसका उपयोग हो सके या फिर वो आपका अकाउंट बाद में डिलीट कर सके तो ऐसे में हमे आप्शन दिया जाता है की हम decide कर सके की हमारे डाटा के साथ क्या हो |

इनएक्टिव अकाउंट मेनेजर युस करके आप decide कर सकते है की कितने समय इनएक्टिव रहेने के बाद आपका अकाउंट और बाकी सारी चीजों को आपके भरोसेमंद नॉमिनी को नोटिफाई के सके |

सेटअप करने के लिए इस लिंक पे जाये गूगल इनएक्टिव सेटअप  

inactive

यहाँ जाके बहुत स्मार्टली आप काफी कुछ मैनेज कर सकते है, जैसे:

  • टाइम आउट PERIOD – टाइम आउट पीरियड मतलब वो समय जिसके बाद गूगल समझ ले की आपका अकाउंट इनएक्टिव है , मतलब जब आपने आखरी साइन इन किया उसके बाद कितने वक़्त तक अगर आपका अकाउंट बंद पड़ा रहे तो आगे जीमेल कार्यवाही करे |
  • एक अलर्ट : जैसा की गूगल बिलकूल भी ये नहीं कह रहा है की ये मरने के बाद का जुगाड़ है 😀 इसलिए एक अलर्ट की व्यवस्था है की आपका जो रजिस्टर्ड नंबर होगा उसपे एक टेक्स्ट आ जायेगा की फलाना अकाउंट आपके नॉमिनी को देने वाले है |
  • नोटिफाई कांटेक्ट एंड शेयर डाटा
  • डिलीट द अकाउंट |

तो बिलकुल ये सब चीज़े आप कर सकते है अपने जीमेल अकाउंट के साथ , सेटअप करने के लिए लिंक ऊपर एम्बेड किया है , जाइए और क्लिक करे  |

और आपके मन में एक सवाल जो की सर्च हिस्ट्री से राज़ खुलने का है , उसका भी पुख्ता जुगाड़ है , सेटअप करने के दौरान searches , ब्लॉग या फिर जो भी शेयर नहीं करना है उसका चेक बॉक्स को untick कर दे  |

google-inactive

Cubical तरबूज

दुनिया बहुत विचित्र है , और यहाँ से लोग उसकी पराकाष्ठा | जब पिकअप ट्रक में माल कम आता है और भाडा पूरा लग्ग जाता है तब इजाद होते है नए नए सतुने  और पिकप मारवाड़ी का हो और उसके गोल तरबूज कम भरा रहे हो तो वो भी दुखते दिल से खाली पिकप ही मंडी ले जाता है , पर जब जापानी का दिमाग घूमता है तो फिर वो तरबूज की शेप ही चेंज कर देता है ताकि stack एंड store का लफड़ा ही ख़तम हो जाये |
BHUhuuPAuNv
ये सब यहाँ गप्पे नहीं दे रहे , इसी पृथ्वी पे ये सब हो रहा है , जापान में इस बात cubical तरबूज मार्किट में आये हुए है | कॉपी करने में तो हम ज़बरदस्त है तो इस बात की पूरी सम्भावना है की अगले कुछ सालो  में आपको भारत में भी ये देखने को मिले 😀 और ये थोडा मेहेंगा बिकता है इसलिए जापान में भी कम लोग ही इसे लेते है | इसको खरीदता कौन होगा ये सोचता हु तो लगता है की इसे मज़े में देखेंगे तो खूब लोग पर इसको खरीदेंगे वोही जो vein डायग्राम में रईस और उल्लू के intersection में पाए जाते है |
BISmfmogk7E
ये तरबूज का शेप एक ग्राफ़िक डिज़ाइनर tomoyuki ono ने इजाद किया 1978 में , और उन्हने Ginza , टोक्यो में गैलरी में भी प्रस्तुत किया , उन्होंने इसका पेटेंट भी लगा रखा है |
 BDL1ZxoHdVh

Madhya pradesh mei hai Happiness Ministry

Bahut ministries suni hogi khel kood , kapda vagerah kabhi hapiness ministry suna hai kya ? ek min ko to imagine karo to lagta hai aise haste hue babu log files udda rahe honge , aap gusse mei jaao ki kaam nahi ho raha vo aapko “arey dhondu beta just chill!! ” karke pyaar se shaant kar de fir kuch samadhaan nikal rahe ho,  ya fir  ek dum koi bhi ghatiya joke aaye to maano poora office siddhu paaji jaise kursi se kudd kudd ke hass raha ho . kalpana ki bhi kya seema ?  kitne aadarsh department lagg raha hai vaise sun ne mei 😀 . ye sab to nahi hone wala par desh mei ek anuthi ministry ko state mei debut kiya hai . iskaa naam hai happiness ministry .

happy unhappy

Netao ko loktantra mei vaise bhi kaha sadness dikhti hai , iski zarurat dikhi vo hi tareef-e-kabil hai . bhutan ki raah pe ki desh ke logo ki khushi vikas ka aadar hai naa ki GDP phedp ye ministry state ki progress ko dhyaan rakhne ke liye banai hai . vaise UAE mei ek post hai minister of happiness karke . CM saab ki sooch hai ki sirf economics , politics se hi state ka vikaas nahi dekha jaye . isi baat mei muje ek gaao ka scene yaad aa gaya ki vaha bhi aise kam kamate hue bhi log chill hai  koi instagram nahi koi facebook nahi to bhi saans le rahe hai koi maruti audi nahi Messy tractor mei bittu DJ ke gaame mei hi Saturday night celebrate kar lete hai aur ulta idhar noida ki metro mei baith jaao aadmi  botonical garden aare aate to itna pareshan lagta hai ki poochi mat. is ministry ko agar statistics mei lage ki happiness kam ho rahi hai to Netao se ul julul tweet / statement kara dene ka . thrill bana rehena chahiye jeevan mei .

 

happyson

khair’ “The state will be made responsible for happiness and tolerance of its citizens and will rope in psychologists to counsel people how to be always happy,” aisa kaah chief minister ne . to ab dukhi ho to jaaiye Madhya Pradesh kyoki ab koi hai jo aapki khushi ka bhi dhyaan rakhega .

CM ne modi ji ki tareef karte hue hapiness ko desh ke vikas se bhi jodd diya hai . aur bharat ko 2022 ko vishwa guru banayenge  . last line to gadar bol di CM saab nei . 😀

 

राजधानी, गतिमान अब नहीं देश की सबसे तेज़ ट्रेन |

स्पेन निर्मित टैल्गो (Talgo)  ट्रेन का हाल ही में दूसरा परिक्षण मथुरा और पलवल के बीच दौड़ा के किया गया 9 जुलाई को ।
इसकी मैक्सिमम स्पीड 130 कम मापी गयी जब इसमें पैसेंजर के वजन के रूप में सैंड बैग्स काम में लिए गए , और जब इसे खली दौड़ाया गया तो इसकी स्पीड 180 नापी गयी।  ट्विटर पे राज्य मंत्री मनोज जी गोयल के हैंडल से इसकी फोटो ट्वीट भी की हुई है ।
इसका फाइनल फेज का ट्रायल दिल्ली मुंबई के बीच १ अगस्त को किया गया | मैक्सिमम स्पीड 220 देखी गयी |
अब सफ़र भन्नाट होने वाला है , टाइम तो बचता ही है ये 30 परसेंट कम बिजली भी युज़ करती है |
Talgo
TALGO के बारे में :
4500HP का इंजन है
लाइट वेट कोच है इसके । (एल्युमीनियम निर्मित)
एक्सेक्यूटिव क्लास
चेयर कार
और कैफेटेरिया से लैस है यह ट्रेन |
रेलवे बोर्ड के फाइनल करने के बाद इस ट्रेन को इम्पोर्ट किया जायेगा |

नींद पूरी लेना है पढने से ज्यादा ज़रूरी |

अक्सर आपने अपने दोस्तों को या खुद को एग्जाम से पहले रात रात भर cram करते हुआ पाया होगा और ज़बरदस्त नींद को भी कंट्रोल करते हुए पढाई की होगी | कितनी बार तो एग्जाम से पहले सुबह डिस्कशन में ये ही मापदडं होता है की ‘ भाई कितना सोया तू ‘ जिसने बोला मैं २ घंटे सोया मतलब तब तो हम पूरी मानसिकता बना लेते थे की भाई तो आज  पेपर में फोड़ेगा और हम चार घंटे सो लिए मतलब पेपर बर्बाद है |
 यह सब बाते सत्य से परे है  और इसका प्रमाण है एक ऑनलाइन जर्नल Child Development  है | जिसमें इसकी शोध हुई और फिर छापा गया  की अगर नींद पूरी नहीं होती है  तो फिर वो  उलटी प्रतिक्रिया देती है | इस स्टडी को लॉस अन्गेलेस (Los Angeles) के पांचसो बच्चो के लगभग 14 दिन रिसर्च किया और होम वर्क और असाइनमेंट्स और क्विज के ऊपर decide किया तो उन्होंने सबमे एक सा conclusion पाया की ज्यादा पढाई के साथ भरपूर नींद आवश्यक है  अगर नहीं होगी तो reverse इफ़ेक्ट पड़ते है और वो नुकसानदेह होता है |
sleep quote
एक और रिसर्च हुई है जो की   by a research team at the University of York, ने करी है | उसमे उन्होंने यह पाया की नींद से भाषा को ग्रहण करने की शक्ति को बल मिलता है | ” बच्चो की क्षमता याद रखना और नए शब्द पहचानना अगर नींद हो तो 12 घंटे बाद इम्प्रूव हो जाती है ” ये कहा डॉक्टर लिसा हेन्डरसन ने , जो की लीड रिसर्चर है |
और जो मुख्य इफेक्ट्स देखे गए वो थे की एक हफ्ते के बाद भी शब्द याद रखने में दिक्कत नहीं हो रही थी |  Developmental Science   में छापी न्यूज़ के हिसाब से की जब बच्चे sufficient नींद ले लेते है तो वो सेम लर्निंग पैटर्न दिखने लगते है जैसा वयस्को में देखने को मिलता है | अच्छी नींद से खेल कूद के साथ पढने में भी पॉजिटिव चीज़े देखने को मिली है |
sleep one
 
क्या असली में होता है नींद के दौरान ? 
नींद  के कुछ चरण होते है , बॉडी अपनी शारीरिक ज़रूरत को पहेले रखती है  जो की स्टेज एक और दो में है और वो फटाफट गुजरता है , फिर स्टेज तीन और चार में कुछ एक घंटे नींद रूकती है इस दौरान   ब्रेन के नयूरोंस खुद तो लय में लाते है और बॉडी अपना रिपेयर करती है , रोग प्रतिरोधक तंत्र मजबूत होता है, मासपेशीय बनती है / ग्रोथ होती है  ह्रदय और बाकी चीज़े भी पुनः शक्ति संगृहीत करती है  
, नींद लेना बहुत आवश्यक है , यह शुभ है | 

Youtube सुनते टाइम , Multitasking भी करे |

Bahut aasaan sa post hai , fuddu category hogi to usme daalenge . content generation pe focus hai isliye kuch bhi daal rahe hai.
YouTube-social-icon2
youtube application mei jab use karte hai to sirf aap vo app hi chala sakte hai , matlab us time koi whats app yaa hangout aaya to switch karoge app to youtube band ho jayega . aaj kal naye update mei peeche vo video zaroor buffer kar deta hai aur aaj kal offline sun ne ka option deta hai  . par aap chattiyaate hue bilkul bhi youtube nahi sun sakte . google karoge to pachas tarah ki applications milegi vo sab bilkul bhi install mat karna kyoki memory keemti hotii hai 😀 zabardasti space badha ke kya karna
ek sun aasaan si trick hai . paid ya in app purchase wali free app lene ki koi zarurat nahi kyoki logo ke phones mei aisi app dekhne baad is post daalne ka mann hua hai .
G+ background (5)
ye hai trick :  apne phone ke browser mei youtube khole aur vaha se play kare.
  • browser mei URL khole . youtube.com
  • app install karne ka suggestion de raha ho ingore kare
  • search bar se gaana search kare or play kare
  • iske baad aaram se multi task kare .

unnamed